dhan prapti ke upay hindi. -आज करें ये नौ बत्तियो वाला उपाय तुरन्त होगी धनवर्षा और खुल जायेगें भाग्य के दरवाजे । - News20world : Name horoscope -Rashifal 2020, Career, Vrat katha, Top 150+ name list hindi

dhan prapti ke upay hindi. -आज करें ये नौ बत्तियो वाला उपाय तुरन्त होगी धनवर्षा और खुल जायेगें भाग्य के दरवाजे ।

Share This


श्री हरीशानन्द जी महाराज जी के अनुभूत प्रयोग और उपाय ।

आज करें ये नौ बत्तियो वाला उपाय तुरन्त होगी धनवर्षा और खुल जायेगें भाग्य के दरवाजे ।
dhan prapti ke upay hindi. 


लक्ष्मी प्राप्ति के सरल उपाय। 

धन प्राप्ति के सामान्य टोटके.|

.|
लक्ष्मी प्राप्ति के सरल टोटके.|


अचानक धन प्राप्ति.|










धन कमाने के उपाय.|
|
धन लाभ के टोटके|
.
धन वृद्धि के उपाय|

धनप्राप्ती उपाय| 









  • धन लाभ के लिए मेहनत,लगन और सूझबूझ की जरूरत रहती है। 
  • जो लोग नौकरी करते है। उनके दैनिक कार्य व्यापार सीमित होते है।
  •  लेकिन निजी व्यापार करने वालों का ज्यादातर समय भविष्य की योजनाएं बनाने और क्रियान्वित करने में लगा रहता है।











  •  जो उधोगपति आत्मविश्वास और बेहतर सूझबूझ तथा लगन के साथ अपने काम में जूट जाते है। वे प्राय सफलता पाते है।
  •  लेकिन कई व्यक्तियों की शिकायत रहती है। कि हर तरह से ईमानदारी के साथ पूरी-पूरी कोशिश करने के बाद भी। उन्हें अपेक्षित सफलता और धनलाभ नही होता है। ऐसी दशा में आज आपके लिये सिद्व टोटका बताया जा रहा है। 
  • इस उपाय के प्रभाव से आपके धन आने के दरवाजे खुल जायेगें। और आपको निश्चित ही फायदा होगा। यह स्वामी श्री हरीशानन्द जी महाराज जी का प्रयोग किया हुआ अनुभूत उपाय है। इसको विश्वास के साथ करने पर जीवन में अच्छे परिणाम मिल सकते है। 

dhan prapti ke upay hindi.
dhan prapti ke upay hindi. 


कुछ लोगों की यह आदत होती है। कि वे अपने कार्यों पर कम ध्यान देते है। लेकिन दूसरों की उन्नति को देखकर जल-भून जाते है। ऐसे लोगों पर माॅ महालक्ष्मी कभी भी प्रसन्न नही होती है।





  • प्रत्येक व्यापारी को चाहिए कि वह उचित दर पर अच्छी किस्म की चीजें ही ग्राहक को दें। 
  • कुछ व्यापारी घटिया चीजें चालाकी से ग्राहक के पल्ले बांध देते है।
  •  वे ऐसा करते समय यह सोचते है। कि अपनी बुद्विमत्ता से उन्होंने बिक्री की है।
  •  लेकिन ऐसा करना ग्राहक को नुकसान पहुचाना तो है ही स्वंय व्यापारी के लिए भी दीर्घकालीन व्यापार की दृष्टि से ठीक नही है। 















  • ऐसा करने करने से उसके व्यापार की साख धीरे-धीरे गिरती चली जाती है। क्योकि माॅ महालक्ष्मी जीवन में एक बार आती है। अगर हम छल-कपट और चालाकी की के साथ अपना व्यापार करते है। तो महालक्ष्मी जी उस ंघर से हमेशा के लिए चली है।
  •  क्योकि जब हम चालाकी करते है। तो हमें लगता है कि हमें कोई नही देख रहा होता हैं मगर धन की अधिष्ठात्यी देवी महालक्ष्मी को हर क्षण की जानकारी रहती है।


अब आपको उपाय बता दें। महाउपाय









  • किसी भी शुक्रवार से यह उपाय आप शुरू कर सकतेे है।
  •  सबसे पहले आपको नौ बत्तियों वाला दीपक बनाना है।
  •  इसके लिये आप एक थाली ले सकते है। और उसमें पहले स्वास्तिक लाल रोली से बनाये।
  •  फिर गाय के घी में भीगी हूई नौ बत्तियों से मा महालक्ष्मी जी की शाम के समय आरती उतारनी है।
  •  और माॅ से धन लाभ की प्रार्थना करनी है। इस प्रयोग को अगर आप हर शुक्रवार को करेंगें। 
  • तो आपका व्यापार चलने लगेगा। और आपको किसी न किसी रूप में धनलाभ होता रहेगा।
  •  अगर आप हमारे स्वामी जी से कोई सवाल पूछना चाहते है।
  •  तो आप हमें काॅमेन्ट कर अपना सवाल पूछ सकते है




No comments:

Post Bottom Ad

Pages